Skip to main content

Gabbar Singh - गब्बर सिंह का चरित्र चित्रण

I got this on mail, and it is hilarious writeup about Gabbar Singh's character! If you don't know who Gabbar Singh is, then stop reading here. If you have seen SHOLAY, chances are you must have seen it multiple times! Still we can't get enough of SHOLAY and its characters! Gabbar Singh, like all other SHOLAY characters, is immortal. This article is based on the fact that if, and I say again, if we teach Sholay in our textbook, there will be teachings on its characters. And considering the new era of movies with anti-hero or main actor playing negative role, there is going to be a different perspective on Gabbar's character. Read on to enjoy:



गब्बर सिंह का चरित्र चित्रण

1. सादा जीवन, उच्च विचार: उसके जीने का ढंग बड़ा सरल था. पुराने और मैले कपड़े, बढ़ी हुई दाढ़ी, महीनों से जंग खाते दांत और पहाड़ों पर खानाबदोश जीवन. जैसे मध्यकालीन भारत का फकीर हो. जीवन में अपने लक्ष्य की ओर इतना समर्पित कि ऐशो-आराम और विलासिता के लिए एक पल की भी फुर्सत नहीं. और विचारों में उत्कृष्टता के क्या कहने! 'जो डर गया, सो मर गया' जैसे संवादों से उसने जीवन की क्षणभंगुरता पर प्रकाश डाला था.

२. दयालु प्रवृत्ति: ठाकुर ने उसे अपने हाथों से पकड़ा था. इसलिए उसने ठाकुर के सिर्फ हाथों को सज़ा दी. अगर वो चाहता तो गर्दन भी काट सकता था. पर उसके ममतापूर्ण और करुणामय ह्रदय ने उसे ऐसा करने से रोक दिया.


3. नृत्य-संगीत का शौकीन: 'महबूबा ओये महबूबा' गीत के समय उसके कलाकार ह्रदय का परिचय मिलता है. अन्य डाकुओं की तरह उसका ह्रदय शुष्क नहीं था. वह जीवन में नृत्य-संगीत एवंकला के महत्त्व को समझता था. बसन्ती को पकड़ने के बाद उसके मन का नृत्यप्रेमी फिर से जाग उठा था. उसने बसन्ती के अन्दर छुपी नर्तकी को एक पल में पहचान लिया था. गौरतलब यह कि कला के प्रति अपने प्रेम को अभिव्यक्त करने का वह कोई अवसर नहीं छोड़ता था.


4. अनुशासनप्रिय नायक: जब कालिया और उसके दोस्त अपने प्रोजेक्ट से नाकाम होकर लौटे तो उसने कतई ढीलाई नहीं बरती. अनुशासन के प्रति अपने अगाध समर्पण को दर्शाते हुए उसने उन्हें तुरंत सज़ा दी. 

5. हास्य-रस का प्रेमी: उसमें गज़ब का सेन्स ऑफ ह्यूमर था. कालिया और उसके दो दोस्तों को मारने से पहले उसने उन तीनों को खूब हंसाया था. ताकि वो हंसते-हंसते दुनिया को अलविदा कह सकें. वह आधुनिक युग का 'लाफिंग बुद्धा' था.


6. नारी के प्रति सम्मान: बसन्ती जैसी सुन्दर नारी का अपहरण करने के बाद उसने उससे एक नृत्य का निवेदन किया. आज-कल का खलनायक होता तो शायद कुछ और करता.


7. भिक्षुक जीवन: उसने हिन्दू धर्म और महात्मा बुद्ध द्वारा दिखाए गए भिक्षुक जीवन के रास्ते को अपनाया था. रामपुर और अन्य गाँवों से उसे जो भी सूखा-कच्चा अनाज मिलता था, वो उसी से अपनी गुजर-बसर करता था. सोना, चांदी, बिरयानी या चिकन मलाई टिक्का की उसने कभी इच्छा ज़ाहिर नहीं की.


8. सामाजिक कार्य: डकैती के पेशे के अलावा वो छोटे बच्चों को सुलाने का भी काम करता था. सैकड़ों माताएं उसका नाम लेती थीं ताकि बच्चे बिना कलह किए सो जाएं. सरकार ने उसपर 50,000 रुपयों का इनाम घोषित कर रखा था. उस युग में 'कौन बनेगा करोड़पति' ना होने के बावजूद लोगों को रातों-रात अमीर बनाने का गब्बर का यह सच्चा प्रयास था.


9. महानायकों का निर्माता: अगर गब्बर नहीं होता तो जय और वीरू जैसे लुच्चे-लफंगे छोटी-मोटी चोरियां करते हुए स्वर्ग सिधार जाते. पर यह गब्बर के व्यक्तित्व का प्रताप था कि उन लफंगों में भी महानायक बनने की क्षमता जागी.


Please note that the above is not written by me, and I got it in my mailbox. If someone thinks that posting it on my Blog is in violation of any copyright law, please send me a mail with copyright information of the above article, and I will remove it from my Blog. 

Comments

Harshal said…
You have really shown the unseen sides of the Gabbarsingh...Thanks!
Keep it up!

Popular posts from this blog

Interstellar – The story behind the story!

I have to admit, when I came out of this movie, I was confused, and thinking hard to find a logical sense to the story. One thought which came to my mind was that my thinking ability is of 3 dimensions and that’s the reason I am not able to logically conclude this 5 dimension story. But few hours later, and few brainstorming sessions with myself, I came up with a somewhat logical explanation on what could have happened in the background, not shown to us, but may have leads to this story-line. 
Here, in this story behind the story of Interstellar, I am presenting the story which may have happened in the normal timeline, without the event shown in the movie. These timelines will lead to a situation where the movie would have started. Read on, to check what has happened in the actual timeline.

TnT – Taranath Tantrik – City of Sorrows

I read both part of Taranath Tantrik - City of Sorrow, and to summarize it, I can only say that I just can’t wait for the third installment. Brilliant story, keeps you gripped till the last page in both part. I will not discuss spoilers here. The story is about a Psychic Taranath Tantrik working with his friends Shankar, a CID office, Sneha, a TV journalist and  Vibhuti, a horror novelist, in an investigation, where someone is trying to change the City of Joy Kolkata into City of Sorrows. 
First part shows glimpse into Taranath’s past, and cut to present day for main story to develop. The second part again shows villain’s past, and then move to current day. So, the first one introduced TnT to us, and started chain of events which makes the story. Then second part introduced the villain to us, and the story progressed.  I liked this type of storytelling, which gives you a glimpse of main character’s past, and then jumps directly to the story. Shamik Dasgupta has once again written a b…

भोर का तारा - कविता (Bhor Ka Tara, a poem)

भोर का तारा, प्रतिक है समाप्त होती रात्रि का।
आने वाली सुबह का, नए दिन की शुरुआत का।
जो लगभग समाप्त हो गया, उस अँधियारे युग का।
एक आशा भरी नयी शुरुआत, नए प्रारंभ का।
जीवन के आकाश पर जल्द ही बिखरने वाली नयी उम्मीदों का।