Skip to main content

Posts

Showing posts from 2016

राष्ट्र गान का सम्मान या डर?

कुछ महीनों पूर्व मैं एक बंगला फिल्म “राजकाहिनी” देखने गया था। फिल्म बहुत अच्छी थी, और अब हिन्दी में भी बन रही है। मेरी ओर से सबको हिन्दी वाली फिल्म देखने की सलाह है। पर यह पोस्ट उस फिल्म या उसकी कहानी से संबन्धित नहीं है। उस फिल्म के अंत में हमारे राष्ट्र गान “जन गण मन” का असली बंगला गीत दिखाया गया है। जन गण मन को पहले बंगला में ही लिखा गया था। सिनेमा हाल में जब यह गाना शुरू हुआ, तब किसी को इसके जन गण मन होने का एहसास नहीं था। दरअसल यह गाना “जन गण मन” से शुरू नहीं होता है। दूसरी पंक्ति आते आते लोगों को पता चलने लगा, और असल राष्ट्र गान ना होते हुए भी लोग एक एक करके खड़े होने लगे। फिल्म का अंत बहुत दुखद और चौका देने वाला है। इसलिए गीत को पहचानने में थोड़ी देर लगी, पर 3-4 पंक्तियाँ होते होते सभी खड़े हो चुके थे। मैं खुद भी खड़ा हुआ था। तब सूप्रीम कोर्ट का कानून भी नहीं था और यह असल राष्ट्र गान भी नहीं था। पर पता नहीं क्यों, अंदर से इच्छा हुई खड़े होने की, और इस गीत को सम्मान देने की। भले ही यह असल राष्ट्र गान ना सही, पर अर्थ तो वही थे। 

दंगल : एक पुरुष प्रधान समाज में लड़कियों पर हो रहे अत्याचार की कहानी

दंगल एक बेहतरीन फिल्म है। पूरी कहानी कुश्ती पर आधारित होते हुए भी इमोशन और ड्रामा से भरपूर है। आमिर ने एक बार फिर बाज़ी मार ली है। शायद यह 2016 की सबसे अच्छी फिल्म साबित हो। 
बस इससे आगे मैं इस फिल्म की और तारीफ नहीं कर सकता। अब जो लिख रहा हूँ, वह मेरा अपना विचार है, और उसका फिल्म के मनोरंजक और अच्छे होने से कोई सरोकार नहीं है। मुझे फिल्म की कहानी पसंद नहीं आई। लगभग सबको कहानी के बारे में पता है, इसलिए यहाँ जो मैं लिख रहा हूँ, वह कोई भेद नहीं खोलेगा। कहानी में एक लड़की की विपरीत परिस्थितियों से लड़कर विजेता बनने के सफर को दिखाने की कोशिश की गई है। पर जिस नजरिए से मैंने देखा, मुझे यह एक लड़की की अपनी सफलता से अधिक उसका बलिदान दिखा। यह कहानी स्त्री प्रधान ना होकर पुरुष प्रधान निकली। एक व्यक्ति जो खुद अपने जीवन में सफलता ना पा सका, अपनी जिद के चलते अपने दो बच्चों का बचपन और उनकी इच्छाएं उनसे छीन कर, उनके जीवन को कुर्बान कर देता है। उनकी अपनी पहचान खत्म हो जाती है। हर जगह उन्हें अपनी इच्छाओं को मारना पड़ता है। लोगों के उपहास का पात्र बनना पड़ता है। और यह सब सिर्फ इसलिए कि वह अपने पिता कि जिद के…

PayTM - is this strategic solution for cashless economy?

Mobile Wallet is in thing today with demonetization and PayTM has gained the most acceptance from the cash crunch situation. There are other wallet services in the market, but for some reason, PayTM acceptance is much more than any other. Maybe that happened because they had inside information, or they have used our PM for promotion, I don’t know that. But this post is not about how they got so much acceptance. In fact, I am thankful that they got such wide acceptance as it helped me to go on with my life since demonetization without much of hassle. I have been using PayTM to pay for my Uber ride, for small purchases done at grocery or stationary store; I have even used it once in Pune for Tea on a small roadside vendor as well. I had few incidents which made me realise not to depend on PayTM fully, and this post is all about those incidents. I am not defaming PayTM service, but the idea is to tell you all not to depend “only” on PayTM or any Wallet. You need to keep your options ava…

500 एवं 1000 की मुद्रा का विमुद्रीकरण – हमें अब क्या करना चाहिए?

जैसा की सभी जानते है, हमारी सरकार ने 1000 एवं 500 की मुद्रा का विमुद्रीकरण कर दिया है। इस महीने की 9 तारीख से यह दोनों नोट बाज़ार में मान्य नहीं है। बहु प्रचलित मुद्रा होने की वजह से बाज़ार में रुपये की किल्लत हो गयी है एवं लोगों में अफरातफरी का माहौल है। मैं कोई अर्थशास्री नहीं हूँ, इसलिए सरकार के इस निर्णय के दूरगामी परिणामों का विश्लेषण नहीं कर सकता। परंतु आज लोगों की विवशता देख पा रहा हूँ। यह लेख सरकार के निर्णय की सराहना या विवेचना करने के लिए नहीं है, बल्कि आज की स्थिति को कैसे काबू में लाया जाये, इसके बारे में है। मुझे इतने बड़े पैमाने पर आई विपदा को सम्हालने का कोई अनुभव नहीं है, मेरे अपने विचार से आज कि स्थिति को सम्हालने के लिए जो सरकार और हमें करना चाहिए, उसे अपनी छोटी सी समझ के अनुसार यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ। सरकार में बहुत बड़े विशेषज्ञ बैठे है, परंतु हालत बदतर होते जा रहे है। इसलिए सोचा शायद एक अलग दृष्टिकोण कि जरूरत हो। 
सरकार तुरंत इन कदमों को उठाए:

Demonetization - What should we do now?

As we know that our government has taken a decision of demonetization of Rs 500 and 1000 notes from market and people are suffering due to cash crunch. I am not an expert economist to comment on long term impact of this decision, but I can see the situation on the ground, with short term impact. This article is not about merit of this decision, but it is about managing the situation in hand. We are in a mess with this implementation, and things are getting out of control. I have tried my best to come up with what the government and public should do to cope up with situation. I am not an expert on managing such large-scale crisis, so this is not a complete formula, but my two cents only. 
What government should do:

The journey towards Independence

We are celebrating our 70th Independence Day this year, which means we are Independent since last 70 years, free to follow our dreams, free from all kind of evil atrocities our country witness over centuries in past. But it actually gets me thinking. Are we really independent? Do we understand independence? 
What is Independence? Do we know the real meaning of Independence? According to Cambridge Dictionary, there are two meanings:
Freedom from being governed or ruled by another country. The ability to live your life without being helped or influenced by other people. 
Our country is free and not ruled or governed by any other country, so in that sense, India is independent. But, as per the second meaning, are we, the people of India, really independent? Another question raised here is about our country. India is not governed or ruled by any other country, but if we use the second meaning in context of our country, is our country really independent? Let’s discuss both the meanings for …

Batman v Superman : Dawn of Justice – What was wrong and how they should have done it

I have already posted my spoiler free review for this movie, and here I am, back again, writing another post about the movie. This movie is so bad, that I could not control myself from punching the keyboard again to write this post. This time, I will put details of what did not work in the movie, spoilers included. I am also going to put my thought of how the same story could have been told differently, in much more entertaining way, still maintaining continuity with MoS and Justice League. So, if you have not seen the movie, and planning to watch it, please stop reading now. I will give you few more lines to skip this article before I go for analysis of this movie, on how bad it is. I am not going to repeat what I have already written in my earlier review, but going to give you the points why this movie is so bad that this series should be stopped right now. We need another reboot, or if not possible, stop it all together. I refuse to let fans like me taken for granted by DC/WB and …

Batman v Superman : Dawn of Justice – Review [No Spoilers]

This is one time watch movie for all fans of DC universe, as we have no other choice but to watch it for continuity of upcoming Justice League movie. But this movie does not offer anything new to us. It actually disappoints the fans at many fronts. Plus, the non-comics-reading-movie-goers will not like it either as it does not offer the superhero movie kind of entertainment to them. Let me give few details, but without any spoilers. 

First of all, zero promotion of the movie here in India. I am not sure about the international promotion, but locally, people are not aware that the movie opens up today. I am not talking about fans who are waiting for last 3 years, but general public. In fact, I went to watch Neerja on Monday in PVR, and there was only one small poster of this movie, with no date, just “Next Change” written at the bottom. How can you invite people to watch this movie when it is not even promoted to the movie goers? And there was no trailer shown as well. BookmyShow is p…

शायद मैं एक देशद्रोही हूँ

शायद मेरी देशभक्ति कुछ गलत है, क्योंकि मैं आजकल सोशल मीडिया पर जेएनयू तथा उसके कुछ छात्रों को फाँसी देने या गोली मार देने या पाकिस्तान भेजने जैसी पोस्ट करने वालों में देशभक्त को नहीं बल्कि देशद्रोही को देख रहा हूँ। उन सभी लोगो से क्षमा चाहते हुए यह लिख रहा हूँ कि मुझे ऐसी धमकी देती हुई पोस्ट ख़ुद हमारे देश के संविधान और कानून का उल्लंघन करती हुई ऐसी लग रही है, जैसे कोई आतंकवादी संगठन अपना वीडियो जारी करता है।

Who is Anti-national?

My social media timeline as well as newspapers and news channels are filled with JNU issue these days. I have kept my silence on this issue so far, and just following the people shouting their lungs out on TV channels and posting hate messages on Social Media against so called Anti-national students and “Anti-national” institute JNU. I was really amused how a small number of student’s rally can tag entire institute Anti-national. There are so many hate posts by some of my friends on social media. There are so many hate speeches by famous news anchors on their prime time. I kept myself out of this issue, not because I cannot form an opinion about it, but because I refuse to blindly follow mob mentality on any issue. In my opinion, real Anti-national is the person who put hate speech or comment against someone without knowing the fact. When we call someone Anti-Indian for not believing in our country and its constitution, it is actually we who are not believing in our constitution and …

Artshake - a staple dose of Art

Artshake is a marvelous art book by Yogesh R Pugaonkar, the renowned artist in Comics Industry of our country. I have been a fan of his art since I met him in first Comic Con in Delhi, and I still cherish the sketch card he gifted me in our first meeting. Then I loved his work in Ravanayan series. He has been drawing and posting some of his work on Facebook, and we were enjoying his style. I love the way he draw eyes as they speak stories. I have always been fascinated by his art, and could not hold myself from buying this in recent Comic Con. The art book is fantastic as it features a journey of Yogesh’s artwork from his school days to sketches to realistic to caricature to digital art and making process. It even has a special feature “Flicker Fun”, which animate the characters once you flicker through pages. Each page holds you with its beauty and you will enjoy the visual art for some time before flipping the page. It is like walking into an art gallery and enjoying the arts on dis…

तरक्की - Short story in hindi

“क्या? तुम अपने कंप्यूटर पर कमांड लिख कर उसका प्रयोग करते हो? कौन से युग से हो भाई?” उपहास करते हुए समय यात्री ने कंप्यूटर पर बैठे वैज्ञानिक से कहा।

“अपनी बात करो, तुम भी आदि काल के लगते हो जो ये माउस चला कर काम कर रहे हो” दूसरे समय यात्री ने पहले का मज़ाक उड़ाया।

“पहले अपने आप को तो देख लो, उँगलियों से अपने इस छोटे से कंप्यूटर का उपयोग करने वाले, तुम भी बहुत उन्नत नहीं हो। मुझे देखो, मैं अपने कंप्यूटर को आदेश देता हूँ और वह मेरी बात सुनकर काम करता है।“ तीसरे समय यात्री ने दूसरे का मज़ाक उड़ाया।

“जरा यहाँ भी देख लो तुम लोग, मैं सिर्फ़ सोच कर अपने कंप्यूटर को आदेश दे सकता हूँ। इसलिए मेरे समक्ष तुम सभी आदिमानव हो।“ चौथे समय यात्री ने भी अपनी तरक्की की डींग हाँकी।

सभी पाँचवें समय यात्री की और देखने लगे, की वह क्या कहता है। पाँचवें समय यात्री ने सबको अपनी ओर प्रश्नवाचक निगाहों से देखते हुए पाया तो शांति से उत्तर दिया, “मैं स्वयं कंप्यूटर हूँ, मानव जाति ने तरक्की तो बहुत की, परंतु अपने घमंड की वजह से अपनी प्रजाति को बचा नहीं पाए।“

विनय पाण्डेय 11 जनवरी 2016